BJ ki Shayri

समुंदर का शहर….

यूँ तो होंगे जहां में समुंदर अनेक… पर ये मुंबई का समुंदर है लाखों में एक… चाहे हो वो मरीन ड्राइव का किनारा… या हो वो जुहू चौपाटी का नज़ारा… जो एक बार यहां आया उसे ये समुंदर लगा ज़रूर प्यारा… कुछ पल हमने भी बिताये हैं यहां… क्या खूब था वो भी समां… कुछ […]

BJ ki Shayri

जे घरे चम्बयाल ता खरे चम्बयाल…

अज्ज वक़्त नहीं है पेहले जैसा… पर ऐ वक़्त वी नी रहणा इक जैसा… जां असी लिंगे घरे रुकने दा फैसला… बेवजह बजार भी घुमना कैसा… जे घरे चम्बयाल ता खरे चम्बयाल… रखो सब अपणा पूरा ख्याल… किजो कि जे घरे चम्बयाल ता खरे चम्बयाल… जे ज़रूरत वास्ते जाणा पेया बजार… ते लगाणा मू पर […]

BJ ki Shayri

हौंसला रख सबर से काम ले ये वक़्त भी गुज़र जाएगा…

ये अँधेरा वबा का जो आया है… ये सन्नाटा ज़मीन पे जो लाया है… इक दिन जाएगा…रौशनी लाएगा…    खुशहाल सुबह फैलाएगा… आफताब भी खिल खिलाएगा…     चाँद भी गुनगुनाएगा… आबोहवा में रहमत का शहद घुल जाएगा… आज वक़्त रूठा है तो कल उजला सवेरा आएगा… यूँ कुछ दिनों की हैं ये आफतें… ये मुश्किलें… […]