Current News

जामिया की छात्रा रोते हुए बोली मैं मुस्लिम नहीं हूं अब मुझे इस पूरे देश में सुरक्षित महसूस नहीं हो रहा..

BJ News: Jamia Millia Islamia University के छात्रों द्वारा नागरिक संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) के विरोध का मामला तूल पकड़ चुका है. जामिया मिलिया इस्लामिया (Jamia Millia Islamia University) में छात्रों के साथ दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की बर्बरता का मामला सुर्खियां बना हुआ है. आरोप है कि रविवार को डीटीसी की तीन बसों में आग लगाने के बाद मामला बिगड़ गया और पुलिस ने जामिया यूनिवर्सिटी में घुसकर छात्रों को निशाना बनाया. पुलिस ने हॉस्टल और लाइब्रेरी में घुसकर छात्र-छात्राओं से बदसलूकी और मारपीट की. पुलिस ने छात्रों पर आंसू गैस के गोले भी दागे. जहां मुमकिन हो सकता था छात्रों ने वहां जाकर खुद को बचाया.

झारखंड के रांची की रहने वाली एक छात्रा मीडिया के सामने आई और रोते हुए अपनी आपबीती सुनाई. छात्रा ने कहा, ‘जब ये सब शुरू हुआ तो हम लाइब्रेरी में थे. हमें सुपरवाइजर की ओर से एक कॉल आया कि सब खराब होता जा रहा है. मैं जाने ही वाली थी कि तभी छात्रों का एक झुंड भागते हुए आया और 30 मिनट में लाइब्रेरी छात्रों से भर गई. मैंने देखा कि कुछ लड़कों के सिर से खून निकल रहा है. कुछ पुलिस वाले अंदर आए और जोर-जोर से गालियां देने लगे. उन्होंने सभी को बाहर जाने के लिए बोला. मैं अपने हॉस्टल की बिल्डिंग की ओर आगे बढ़ने लगी. मैंने देखा कि लड़के सड़क पर गिरे पड़े हैं. वो बेहोश थे.’

छात्रा ने आगे कहा, ‘जब हम लोग जा रहे थे तो हमारे हाथ ऊपर थे. आखिरकार मैं हॉस्टल पहुंच गई. थोड़ी देर बाद कुछ लड़के हमारे हॉस्टल में भागते हुए आए और कहा कि लड़कियों को पीटने के लिए महिला पुलिसकर्मी यहां आ रही हैं. मैं उनसे बचने के लिए दूसरी जगह चली गई. कुछ देर बाद मैं हॉस्टल में लौटी. मैंने देखा कि लड़कों के कपड़े खून से सने हैं.’

छात्रा ने रोते हुए कहा, ‘हमें लगता था कि छात्रों के लिए दिल्ली सबसे सुरक्षित है और ये एक सेंट्रल यूनिवर्सिटी है. मुझे लगता था कि हमारे लिए यूनिवर्सिटी सबसे महफूज है, हमें कभी कुछ नहीं होगा. हम पूरी रात रोते रहे. ये क्या हो रहा है. अब मुझे इस पूरे देश में सुरक्षित महसूस नहीं हो रहा है. मुझे नहीं पता कि हम लोग कहां जाएंगे और कब हम भीड़ का शिकार हो जाएंगे. मैं मुस्लिम नहीं हूं फिर भी मैं पहले दिन से आगे खड़ी हूं, तो मैं क्यों लड़ रही हूं. हमारी पढ़ाई का क्या फायदा है अगर हम सही के साथ खड़े नहीं हो सकते.’

Like

Like Love Haha Wow Sad Angry

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *