Sab ka aik Bhaijaan

बुलंद इरादों ने साबिर को मंज़िल से मिला दिया

Sab Ka Aik Bhaijaan

SAb Ka Aik Bhaijaan-ज़िंदगी में मुश्किलें कितनी ही आ जायें लेकिन मुश्किलों का जो जम कर सामना करते हैं कामयाबी उनके कदम ज़रूर चूमती है. सब का एक भाईजान की इस कड़ी में आज ऐसे ही एक शख्स की कहानी बताई जाएगी.जिन्होंने जी तोड़ मेहनत के दम पर अपने शहर और गांव का नाम सुनेहरे अक्षरों में रौशन कर के दिखाया है.आज फिर से आपका भाईजान एक नए भाईजान यानि लीडर की कहानी बताने जा रहे हैं. जिनका नाम साबिर अली है. साबिर जिला चंबा के छोटे से गांव मंजीर के रहने वाले है. अगर खालिस गांव की बात करें तो वहां सुविधाओं की बेहद कमी थी.लेकिन साबिर इन सबको ना देखते हुए दिलो दिमाग में एक और ही इबारत बुन रहे थे. जो उन्हें एक सुनेहरे मुस्तकबिल की ओर बुला रही थी. उन्हें बच्चपन से ही ज़िन्दगी में कुछ बड़ा मुकाम हासिल करने का जज़्बा था. जिसके लिए वो दिन रात मेहनत में मशगूल रहते थे. वो हमेशा पढ़ाई में अव्वल आते थे. आप इससे अंदाज़ा लगा सकते हैं कि उन्होंने पढ़ाई के क्षेत्र में लगातार तीन साल मंजीर स्कूल से आठवीं, नवमी और दसवीं जमात में Top किया. लेकिन फिर एक ऐसा वक़्त भी आया जब साबिर 11वीं जमात के unit टेस्ट में फेल हो गए. ऐसा होने से साबिर के हौंसले में कमी नहीं आई. वो एक बार फिर उठे और ऐसा उठे के 11वीं जमात के final result में तीसरे स्थान पर आ पहुंचे.फिर उनके टॉप करने का सफ़र यूनिवर्सिटी तक लगातार जारी रहा. साबिर इतने पढ़े लिखे हैं कि अगर उनकी degrees की बात करें तो एक अलग से फेहरिस्त बनानी पड़ेगी. लिहाज़ा हम इतना बता देते हैं कि वो वैसे तो MBA,Mphil हैं लेकिन उनके पास बाकि मेडल्स डिप्लोमा और डिग्रीज भी बेतहाशा हैं. अगर एक आसान भाषा में कहें तो ये कह सकते हैं कि साबिर को पढ़ाई का गज़ब का कीड़ा था. साथ ही पढ़ाई ही नहीं वो कई hobbies के भी मालिक है. जिनमें एक बेमिसाल हॉबी इस्लाम के नुख्ता नज़र से ज़िन्दगी को बयान करना है. साबिर इस्लाम का भी गहरा इल्म रखते हैं जो आज के दौर में काबिले तारीफ़ है. क्यूंकि आज के दौर में खासतौर पर युवा इन चीज़ों में रुझान कम दिखाते हैं.इसके अलावा साबिर इंग्लिश, हिंदी, पंजाबी, अरबी, उर्दू जैसे ज़बानों को लिख पढ़ और बोल सकते हैं, फ़िलहाल आजकल साबिर अली National Agri Food Biotechnology institute(Govt. of India) मोहाली पंजाब में  बेहतरीन ओहदे पर अपनी सेवाएँ दे रहे हैं.तो ये थे आज के हमारे सबका एक भाईजान अगर ये article अच्छा लगा हो तो like करें और comment करके इस article की शान और बढ़ा दें. सदा मौज में रहे. आपका Bhaijaan

MBA के दौरान HPU Shimla में Silver Medal लेते हुए साबिर अली

Like

Like Love Haha Wow Sad Angry

1

9 Replies to “बुलंद इरादों ने साबिर को मंज़िल से मिला दिया

    1. Sabir you are our MBA classmate and I know your dedication towards your studies and other activities from that time and now you have achieved alot Congrats for that and best of luck for your future assignments.

  1. I personally know Mr. Sabir Ali. He is a great friend and also people love to enjoy his company

  2. Overwhelmed by the replies received from my friends. Thank you all for such beautiful comments . ALMIGHTY wanted me to meet you all, so probably “HE” made my success ladder and its each step like this. GOD bless you all.. Stay in touch pls

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *