Meri Kahani

सुनसान सड़क पर रात के अंधेरे में हुई खौफ़ की आहट…

मेरी कहानी भाईजान की ज़ुबानी में आज की कहानी हमें साबिर अली ने भेजी है. जो उनकी आप बीती घटना पर आधारित है. तो चलिए बताते हैं उनकी ये सच्ची कहानी.

यह बात उन दिनों की है जब 2007 में साबिर बद्दी में एमबीए की पढ़ाई कर रहा था. इसी दौरान वो  बुक्स लेने के सिलसिले में चंडीगढ़ से वापिस बद्दी आ रहा होता है. रात भी काफी हो गई होती है. तभी साबिर बद्दी पहुंचता है. वहां पहुंच कर वो अपने रूम के लिए पैदल सफ़र शुरू करता है. ये काफी सुनसान रास्ता था दूर दूर तक आबादी का कोई नामोनिशान नहीं था. इसी रास्ते के आसपास शमशान घाट भी पढ़ता था.

साबिर अपने रूम की तरफ जा रहा होता है कि अचानक उसे अपने पीछे किसी के चलने की आहट महसूस होने लगती है. ये सुन कर वो काफ़ी घबरा जाता है. रात का घना अँधेरा देख कर साबिर का खौफ़ और बढ़ जाता है. जैसे साबिर आगे कदम रखे वैसे उसे पीछे से क़दमों की आहटें सुनाई देने लगे. वो घबरा कर जब रुकता तो उसके साथ साथ चल रही कदमों की आवाजें भी थम जाती.

फिर हिम्मत करके साबिर पीछे देखने की कोशिश करता है. लेकिन पीछे किसी को नहीं पाता है और तेज़ी से आगे बढ़ने लगता है इसी बीच पीछे कदमों की आवाजें भी तेज़ी से उसके पीछे चलने लगती हैं.ऐसे में साबिर का डर और बढ़ जाता है वो रब का ज़िकर करने की कोशिश करता है. लेकिन खौफ़ से उसकी ज़ुबान नहीं खुल रही होती है. उस पे डर और घबराहट की कैफ़ियत तारी हो जाती है.

इसी दौरान कुछ हौंसला करके साबिर कुरान की आयतों की तिलावत करना शुरू करता है. जैसे ही वो कुरान पढ़ना शुरू करता है तो वो कदमों की आवाजें अपने से दूर महसूस करने लगता है. लेकिन इसके साथ ही साबिर पर डर का असर काफी चढ़ गया था. वो पसीने से लथपथ था. वो इस सुनसान रास्ते पर अकेला था. फ़िर किसी तरह वो अपने रूम के क़रीब पहुंचता है. उसके डर का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि रूम देख कर वो मानो दौड़ कर जाना चाहता हो पर वो अपने पांव और अपनी टांगों पर अजीब सा बोझ महसूस करता है. फिर किसी तरह साबिर अपने रूम पहुंचता है. उस रात के खौफ़ से साबिर की भूख प्यास उड़ गयी थी. वो तक़रीबन तीन-चार दिन तक बीमार रहा और कॉलेज भी नहीं जा पाया. पास के मस्जिद के मौलाना ने उसका रूहानी इलाज किया.

 आज भी साबिर जब  इस खौफ़नाक रात को याद करता है तो उसे एक अलग सी घबराहट और डर का एहसास होता है. तो ये थी मेरी कहानी भाईजान की ज़ुबानी अगर आपको ये कहानी अच्छी लगी हो तो post के नीचे Like का बटन press करें.

अब आप भी हमें अपनी ज़िंदगी से जुड़ी कोई सच्ची कहानी भेज सकते है. आप इस नंबर पर 9805554298 whats अप्प करके या mirza.anish21@gmail.com पर अपनी कहानी भेज सकते हैं.

आपका #Bhaijaan

Like

Like Love Haha Wow Sad Angry

5

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *