BJ bole to

फ्लिंटॉफ ने कहा कुछ युवराज को भुगतना पड़ा ब्रॉड को जाने क्या…

BJ Bole To: टीम इंडिया के दिग्गज ऑलराउंडर रहे युवराज सिंह आज (12 दिसंबर) अपना 39वां जन्मदिन मना रहे हैं. चंडीगढ़ में साल 1981 में जन्में युवराज ने भारत के लिए 40 टेस्ट, 304 वनडे और 58 टी-20 मैच खेले. टेस्ट में युवराज ने तीन शतकों और 11 अर्धशतकों की मदद से कुल 1900 रन बनाए जबकि वनडे में उन्होंने 14 शतकों और 52 अर्धशतकों की मदद से 8701 रन जुटाए.

13 साल पहले 19 सितंबर 2007 को युवराज सिंह ने इतिहास रचा था. दक्षिण अफ्रीका में खेले गए पहले टी-20 वर्ल्ड कप में युवराज ने इंग्लैंड के स्टुअर्ट ब्रॉड के एक ओवर की सभी 6 गेंदों पर 6 छक्के जड़े थे. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अफ्रीकी धुरंधर हर्शल गिब्स के बाद एक ओवर में छह छक्के मारने वाले वह दूसरे बल्लेबाज बने थे.

टी-20 वर्ल्ड कप के 21 मैच में भारत की पारी का 18वां ओवर जारी था, एंड्रयू फ्लिंटॉफ गेंदबाजी कर रहे थे और उनकी युवराज के साथ कहा सुनी हो गई थी. दरअसल, फ्लिंटॉफ ने युवराज की तरफ भद्दे इशारे किए थे, लेकिन उसका खामियाजा ब्रॉड को भुगतना पड़ा. 19वें ओवर में युवराज ने ब्रॉड की सभी गेंदों को सीमा रेखा के पार पहुंचाया. क्रीज के दूसरे छोर पर खड़े कप्तान महेंद्र सिंह धोनी युवी को बस देखते रहे.

युवराज ने सिर्फ 12 गेंदों में अपना अर्धशतक पूरा कर लिया था, जो आज भी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सभी प्रारूपों में रिकॉर्ड है. युवी ने कुल 16 गेंदों में 58 रन बनाए इस दौरान उन्होंने 7 छक्के और 3 चौके मारे. युवी की पारी के दम पर ही भारत ने उस मैच में 218/4 रनों का स्कोर बनाया और इंग्लैंड को 18 रनों से मात दी थी. फाइनल में भारत ने पाकिस्तान को हराकर खिताब अपने नाम किया था.

सिर्फ टी20 की बात करें, तो क्रिस गेल ने 2016 में बिग बैश लीग में 12 गेंदों में फिफ्टी पूरी की थी, लेकिन टी20 इंटरनेशन में यह रिकॉर्ड युवराज सिंह के नाम है. युवराज के क्रिकेट से संन्यास के बाद स्टुअर्ट ब्रॉड ने एक इंटरव्यू में कहा था युवी ने मुझे 6 छक्के जड़कर गेंदबाज बना दिया. जिस वक्त उन्होंने मुझे 6 छक्के मारे थे, उस वक्त मैं 21 साल का था. डेथ ओवर में गेंदबाजी करने का अनुभव नहीं था. इस मैच में युवराज गेंद को बहुत अच्छी तरह हिट कर रहे थे. उस दिन स्लोअर-यॉर्कर कोई भी डिलिवरी मेरा साथ नहीं दे रही थी.

टी-20 मैचों में युवराज ने कुल 1177 रन बनाए. इसमें आठ अर्धशतक शामिल हैं. युवराज ने टेस्ट मैचों में 9, वनडे में 111 और टी-20 मैचो में 28 विकेट भी लिए हैं. युवराज ने 2008 के बाद कुल 231 टी-20 मैच खेले हैं और 4857 रन बनाए हैं. उन्होंने टी-20 मैचों में 80 विकेट भी लिए हैं.

भारत ने जब साल 2011 में महेंद्र सिंह धोनी के नेतृत्व में दूसरी बार आईसीसी वर्ल्ड कप जीता था, तब युवराज एक लड़ाके के रूप में सामने आए थे. युवराज ने उस वर्ल्ड कप में 362 रन (एक शतक और चार अर्धशतक) बनाने के अलावा 15 विकेट भी हासिल किए थे और चार बार मैन ऑफ द मैच के अलावा प्लेअर ऑफ द टूर्नामेंट चुने गए थे.

युवराज के लिए वह वर्ल्ड कप खास था क्योंकि जब भारत ने पहली बार वर्ल्ड कप जीता था, तब उनका जन्म भी नहीं हुआ था और जब वह वर्ल्ड चैम्पियन बने तो उन्होंने अपने नाम एक अनोखा रिकार्ड जोड़ लिया. युवराज पहले ऐसे ऑलराउंडर हैं, जिन्होंने किसी विश्व कप में 300 से अधिक रन बनाने के अलावा 15 विकेट भी हासिल किए हों. युवराज उन चुनिंदा खिलाड़ियों में से एक हैं, जिन्होंने भारत के साथ दो वर्ल्ड कप जीते हैं. 2007 में भारत ने टी-20 वर्ल्ड कप जीता था.

वर्ल्ड कप 2011 के बाद युवराज कैंसर से पीड़ित बताए गए और फिर अमेरिका में उनका लम्बे समय तक इलाज चला. कैंसर को हराने के बाद युवराज ने राष्ट्रीय टीम में वापसी की लेकिन इसके बाद उनकी जिंदगी पहले जैसी नहीं रही.

Like

Like Love Haha Wow Sad Angry

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *